Wednesday, May 15, 2019

'तियानमेन स्क्वायर प्रोटेस्ट' की 30 वीं वर्षगांठ को नज़र में रखते हुए, चीन ने किया विकिपीडिया ब्लॉक

'तियानमेन स्क्वायर प्रोटेस्ट' की 30 वीं वर्षगांठ को नज़र में रखते हुए, चीन ने किया विकिपीडिया ब्लॉक

विकिपीडिया, फ्री ऑनलाइन इनसाइक्लोपीडिया के प्रवक्ता ने पुष्टि की है कि चीनी अधिकारियों ने विकिपीडिया को पूरे देश में दुर्गम बना दिया है। ये पहली बार नहीं है जब देश ने विकिपीडिया को ब्लॉक्ट किया है। अप्रैल में, विकिमीडिया फाउंडेशन, जो विकीपीडिया के नेतृत्व में एक गैर-लाभकारी संगठन है और विकिमीडिया आंदोलन में भाग लेता है, ने पुष्टि की थी कि वेबसाइट अब चीन में एक्सेसिबल नहीं है

Tiananmen Square protests

ओपन ऑब्जर्वेटरी ऑफ नेटवर्क इंटरफेरेंस, जो फ्री और ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर (FL/OSS) का उपयोग करके उच्च गुणवत्ता वाले डेटा को इकट्ठा करने के लिए जिम्मेदार है, के अनुसार, हालिया ब्लॉक ने तियानमेन की 30 वीं एनीवर्सरी को नजर में रखते हुए विकिपीडिया के सभी इडिशन को प्रभावित किया है।

इतिहास को याद करते हुए, यह जून तियानमेन स्क्वायर की 30 वीं वर्षगांठ होगी जब सेना ने लोकतंत्र समर्थक विरोध को दबाने के लिए बल का इस्तेमाल किया। तियानमेन को आमतौर पर "1989 डिमॉक्रेसी स्क्वायर प्रोटेस्ट" या "89 डिमॉक्रेसी मूवमेंट" के रूप में जाना जाता है। इतिहास गवाह है, यह उस अवधि के दौरान बीजिंग विरोध से प्रेरित सबसे लोकप्रिय "राष्ट्रीय आंदोलन" माना जाता था।

चीन एक ऐसा देश है, जिसने लंबे समय से विदेशी साइटों, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और अन्य लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर क्रैकडाउन किया है। ब्लॉक की शिकायत सोशल मीडिया पर भी सामने आई जब चीनी इंटरनेट उपयोगकर्ताओं ने ट्विटर और फेसबुक पर रिपोर्ट पोस्ट की। हालांकि, चीनी विरोधी सेंसरशिप ग्रुप Greatfire.org ने भी खुलासा किया कि अप्रैल से साइट चीन के भीतर एक्सेसिबल नहीं थी।

रिपोर्टों का दावा है कि चीन ने अपने लोगों को ग्रेट फ़ायरवॉल के पीछे धकेल दिया है, जो विकिपीडिया, ट्विटर और फेसबुक जैसी ब्लॉक्ट वेबसाइटों का उपयोग करके चीनी लोगों को रोकने के लिए अड्वैन्स्ट टेक्नोलॉजी का उपयोग 2015 से करता है।

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, 2017 में, अंग्रेजी विकिपीडिया के विकल्प के रूप में चीन ने अपने राष्ट्रीय इनसाइक्लोपीडिया का एक ऑनलाइन वर्जन डेवेलोप किया। नोटॅबॅल और संवेदनशील लेख लिखने के लिए देश ने हजारों स्कॉलरस को नियुक्त किया था। इससे पता चलता है कि चीन के अधिकारी विकी पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने जा रहे हैं।

Read other related articles

Also read other articles

© Copyright 2019 TechLekhak | All Right Reserved