Monday, May 20, 2019

Huawei के एंड्रॉयड लाइसेंस पर लगा दिया प्रतिबंध, जासूसी आरोप के बाद ट्रम्प प्रशासन ने किया ब्लैकलिस्ट

Huawei के एंड्रॉयड लाइसेंस पर लगा दिया प्रतिबंध, जासूसी आरोप के बाद ट्रम्प प्रशासन ने किया ब्लैकलिस्ट

स साल की शुरुआत में, अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने चेतावनी दी थी कि चीनी मल्टीनैशनल टेलीकम्यूनिकेशनs इक्विपमेंट कंपनी चीनी स्टेट सिक्योरिटी द्वारा समर्थित है। सीआईए की रिपोर्टों के बाद, ट्रम्प प्रशासन ने राष्ट्रीय सुरक्षा को नजर में रखते हुआवेई को ब्लैकलिस्ट कर दिया। अमेरिकी कानून और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार नियमों का पालन करने के लिए, गूगल दुनिया के लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम, एंड्रॉइड का उपयोग करने से हुआवेई पर प्रतिबंध लगा रहा है।

Google banned Huawei

रॉयटर्स द्वारा पहले प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, गूगल ने Huawei के साथ बिजनेस करना बंद कर दिया है। गूगल अब Huawei के साथ अपनी उन सेवाओं का व्यापार नहीं करेगा जो ओपन-सोर्स लाइसेंस के माध्यम से सार्वजनिक रूप से उपलब्ध नहीं हैं।

गूगल का निर्णय वर्तमान लाइसेंस प्राप्त सॉफ़्टवेयर और ऐप्स को प्रभावित नहीं करेगा। लेकिन, हुआवेई अब जीमेल, यूट्यूब, गूगल प्ले स्टोर और अन्य गूगल-लाइसेंस वाले ऐप, सॉफ्टवेयर्स और हार्ड्वेर्स को एक्सेस नहीं कर पाएगी। एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम और सेवाओं का कोई भी सार्वजनिक रूप से उपलब्ध वर्जन Huawei पर काम करना जारी रखेगा।

अभी तक यह पुष्टि नहीं हुई है कि चीनी कंपनी Huawei बाकी गूगल लाइसेंस प्राप्त सेवाओं का उपयोग करना जारी रखेगा या नहीं। एक तरफ से कंपनी 5 जी टेक्नोलॉजी पर विचार कर रही है, लेकिन दूसरी तरफ हाल ही में व्यापार-निलंबन के कारण, स्मार्टफोन कंपनी हुआवेई का अंतरराष्ट्रीय बिजनेस विदेशों में प्रभावित हो सकती है।

Read other related articles

Also read other articles

© Copyright 2019 TechLekhak | All Right Reserved